मिस्ट्री ऑफ़ द मंथ

“मिस्ट्री ऑफ़ द मंथ” इस प्लेटफोर्म पर आरम्भ की जा रही नयी गतिविधि है जिसके अनुसार हर  महीने के चौथे रविवार को आप सभी के सामने एक “कहानी” प्रस्तुत की जायेगी जो एक अपराध कथा होगी।लेकिन यह अपराध कथा अपने आप में पूर्ण नहीं होगी क्यूंकि आप हमें कमेंट सेक्शन में यह बताएँगे की असली गुनाहगार या असली अपराधी कौन है। लेकिन सिर्फ इतना ही नहीं, आपको आगे की कहानी भी पूरी करनी होगी। अर्थात दो तिहाई कहानी हम आपके सामने रखेंगे जिसमे से आपको असली अपराधी को पहचान कर आगे की एक तिहाई कहानी हमें भेजना होगा। जिस प्रतियोगी का सबसे सही उत्तर और उस उत्तर को कारण सहित व्याख्या करते हुए आगे की कहानी में प्रस्तुत करेगा उसे हमारी टीम की तरफ से क्राइम-फिक्शन विधा की एक पुस्तक इनाम स्वरुप भेजी जायेगी। 
कुछ मुख्य नियम:-
• जबाव देने के लिए समय सीमा – एक हफ्ता 
• शब्दों के संख्या – १००० शब्द 
• योग्यता – कोई भी भारतीय इस प्रतियोगिता में हिस्सा ले सकता है
• उम्र – कोई सीमा नहीं
·प्रतियोगी इस बात का ध्यान रखें की वे दो तिहाई हिस्से में प्रस्तुत की गयी कहानी के पात्र, किरदार, घटनाएं, सूत्र, सुराग एवं तथ्यों का इस्तेमाल करके ही फाइनल चैप्टर को लिखें और भेजें। अपनी तरफ से नए किरदार, पात्र, घटनाएं, सूत्र, सुराग एवं तथ्यों को न जोड़ें।
·आपके द्वारा भेजे गए कहानी के “अंतिम भाग”, डिडक्शन पार्ट या फाइनल चैप्टर को ५ जजों के पास भेजा जाएगा। उनसे प्राप्त हुए निर्णय के आधार पर किसी एक फाइनल चैप्टर को प्रथम स्थान प्राप्त होगा। जिस प्रतियोगी के कहानी को प्रथम स्थान प्राप्त होगा, उसे SWCCF टीम की तरफ से 300 रुपये तक के मूल्य की एक पुस्तक इनाम स्वरुप भेजी जाएगी ।
• आप अपना जवाब कमेंट सेक्शन में ही डाले। इसके लिए आपको रजिस्ट्रेशन करने की आवश्यकता नहीं है।